Spread the love

Rahul Gandhi ED news; ईडी द्वारा राहुल गांधी से पूछे गए सवालों का मीडिया में आने पर ,कांग्रेस ने सरकार पर तीखा हमला किया, कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा, कि सरकार दुष्प्रचार में लगी है, और दबाव डालकर उसने इन तथाकथित सवालों को मीडिया में लीक करवाया है, ईडी द्वारा पूछे गए सवाल मीडिया तक कैसे पहुंचे इस बारे में मोदी सरकार को जवाब देना चाहिए

Rahul Gandhi ED news

राहुल गांधी को ईडी ने पूछताछ के लिए बुलाया था,मामला क्या?.

भारत के पहले प्रधानमंत्री’ पंडित जवाहरलाल नेहरू’ ने नेशनल हेराल्ड की शुरुआत की थी। पंडित जवाहरलाल नेहरू ने अंग्रेजों से आजादी की लड़ाई को मजबूत करने के लिए, लखनऊ उत्तर प्रदेश में इस अखबार की शुरुआत की थी,इस अखबार की शुरुआत के लिए. एसोसिएट जर्नल्स लिमिटेड की 20 नवंबर 1937 में स्थापना की गई और कंपनी को पंजीकृत करवाया गया था। नेशनल हेराल्ड को चलाने में काफी समस्याओं का सामना करना पड़ा था 1942 से 1945 तक नेशनल हेराल्ड को ब्रिटिश सरकार ने प्रतिबंधित कर रहा था।
अब बात आती है चल रहा मामला आखिर क्या है, साल 2008 में अखबार के संचालन के दौरान ,एजेएल को भारी नुकसान हुआ इसके साथ ही अखबार का संचालन बंद कर दिया गया. 2010 में यंग इंडिया नाम की एक कंपनी का गठन हुआ इस कंपनी में ‘सोनिया गांधी’ और ‘राहुल गांधी’ की 38-38 प्रतिशत की हिस्सेदारी थी.
दिसंबर 2010 मैं एक खबर सामने आई कि एजेएल पर कांग्रेस का 90 करोड़ बकाया है. 29 दिसंबर 2010 कंपनी के पास मौजूद दस्तावेजों के अनुसार इस तारीख को शेयर धारकों की संख्या 1057 थी. 26 फरवरी 2011को कांग्रेस ने 90 करोड़ की देनदारी को अपने सर लिया था . इसका अर्थ हुआ कि पार्टी ने 90 करोड का लोन दिया। 2011 में यंग इंडिया लिमिटेड ने 90 करोड़ की वसूली के अधिकार को प्राप्त करने के लिए एजेएल को मात्र 50लाख भुगतान किया था यंग इंडिया ने इस 50 लाख के बदले कर्ज को माफ कर दिया, और एजे एल पर यंग इंडिया नियंत्रण हो गया था,
Rahul Gandhi ED news: एक नवंबर 2012: सुब्रमण्यम स्वामी ने दिल्ली की एक अदालत में एक निजी शिकायत दर्ज की। इसमें आरोप लगाया गया कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी दोनों ने निजी कंपनी यंग इंडिया के जरिए एजेएल का अधिग्रहण कर धोखाधड़ी और जमीन हथियाने का काम किया है।दो नवंबर 2012: कांग्रेस ने सफाई दी कि कांग्रेस ने नेशनल हेराल्ड अखबार को फिर से चलाने के लिए एजेएल को लोन दिया था।सात जनवरी 2013: भूमि और विकास आफिस ने एजेएल को व्यावसायिक उद्देश्यों के इमारतों को किराये पर देने का अधिकार दिया।2014: ईडी ने इस केस की जांच शुरू की। ईडी यह पता लगाना चाहती थी कि क्या इस केस में किसी तरह की मनी लॉन्डिंग हुई है या नहीं।
जून 2014: अदालत ने सोनिया और राहुल गांधी को आरोपी के रूप में अदालत में समन किया।19 दिसंबर 2015: कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी समेत दूसरे आरोपियों को पटियाला कोर्ट ने नियमित जमानत दे दी2016: सुप्रीम कोर्ट ने का कांग्रेस नेताओं के खिलाफ कार्रवाई रद्द करने से इनकार कर दिया। हालांकि कोर्ट ने सभी आरोपितों को व्यक्तिगत पेशी से छूट प्रदान कर दी।एक अक्टूबर 2016: नीलाभ मिश्रा को एजेएल के डिजिटल स्वरूप का संपादक नियुक्त किया गया।
Rahul Gandhi ED news 14 नवंबर 2016 को नेशनल हेराल्ड की अंग्रेजी की वेबसाइट लांच की गईपांच अक्टूबर 2016: भूमि एवं विकास आफिस ने एजेएल को नोटिस जारी किया और कहा कि एजेएल की संपत्ति का इस्तेमाल प्रेस के कामों के लिए नहीं किया जा रहा है।अक्टूबर 2018: दिल्ली हाई कोर्ट ने एजेएल को बहादुर शाह जफर मार्ग पर स्थित हेराल्ड हाउस को खाली करने का आदेश दिया।फरवरी 2019:
गांधी परिवार इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचा।एक जून 2022: ईडी ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी को पेश होने का नोटिस भेजा।13 जून 2022: राहुल गांधी दिल्ली में ईडी दफ्तर में पेश हुए।सोनिया गांधी को भी समन किया गया है लेकिन बीमारी के कारण वो अस्पताल में भर्ती हैं, लिहाजा अभी वो पेश नहीं हुई हैं।